• Fri. Dec 3rd, 2021

देवभूमि उत्तराखंड

उत्तराखंड का इतिहास, समाचार,नौकरी, पर्यटक स्थल,उत्तराखंड आर्थिक विकास, उत्तराखंड ग्रामीण विकास, उत्तराखंड भूमि एवं कृषि विकास,उत्तराखंड वैश्विक संगठन,योजनाएं,नीतियां,कविता संग्रह ,लोक गीत , कलाकार और उत्तराखंड में स्थित मन्दिर/पौराणिक स्थल

दीपावली 2021 : जानिए शुभ मुहूर्त तथा महत्व

Bydevbhoomiuttarakhand

Oct 23, 2021

दिवाली शब्द संस्कृत के दीपावली से लिया गया है जिसका अर्थ है ‘ दीपों की रेखा’। यह भारत में सबसे महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है, जो एक नए साल का प्रतीक है, और अक्सर इसकी तुलना पश्चिम में क्रिसमस से की जाती है। उत्सव 5 दिनों तक चलता है।

2021 में दीपावली में गुरुवार, 4 नवंबर को है।

दिवाली की तारीख भारत कैलेंडर द्वारा निर्धारित की जाती है और हर साल अक्टूबर से नवंबर तक बदलती रहती है ।

यह भारत के कैलेंडर में 8 वें महीने (कार्तिक के महीने) के 15 वें दिन मनाया जाता है। दिन एक अमावस्या या ‘अमावस्या का दिन’ है। अमावस्या तिथि (वह अवधि जब चंद्रमा 12 डिग्री तक सूर्य के प्रकाश का विरोध करता है) 4 नवंबर को सुबह 6:03 से 2021 में 5 नवंबर को सुबह( मध्यरात्रि के बाद) 2:44 बजे तक है

देवी लक्ष्मी (धन के देवता) की पूजा मुख्य रूप से दिवाली पूजा के दौरान सुख, समृद्धि और प्रसिद्धि के लिए की जाती है।

दिल्ली में दिवाली 2021 के लिए, लक्ष्मी पूजा मुहूर्त ( लक्ष्मी पूजा करने का सबसे अच्छा समय) 4 नवंबर को शाम 6:09 बजे से रात 8:04 बजे तक 1 घंटा 55 मिनट है ।

पहला दिन 2 नवम्बर 2021:

यह त्योहार का पहला दिन है जब लोग अपने घरों को साफ करते हैं और आगे के कार्यक्रमों की तैयारी करते हैं । यह दिन धनतेरस नाम से प्रसिद्ध है, यह खरीदारी का एक व्यस्त दिन भी है, जब बाजारों में जाना और सोना या रसोई का नया सामान खरीदना भाग्यशाली माना जाता है।

दूसरा दिन – छोटी दिवाली, 3 नवंबर, 2021 (बुधवार) :

त्रयोदशी दूसरा दिन है जब लोग अपने घरों को सजाने लगते हैं। कई परिवार लड़ियां (लाइट्स) लगाते हैं तथा रंगोली बनाते हैं।

तीसरा दिन – दिवाली और लक्ष्मी पूजा ,4 नवंबर, 2021 (गुरुवार) :

अमावस्या उत्सव का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है, इस दिन होने वाला अनुष्ठान है :मिट्टी के तेल के दीपक जलाए जाते हैं और देवी लक्ष्मी की पूजा की जाती है। पूजा के लिए सबसे शुभ समय शाम 6:09 बजे से रात 8:04 बजे तक है । पूजा मंदिरों में या घर पर पूजा चौकी (‘पूजा की मेज’) पर एक लाल कपड़ा रखकर, उस पर मूर्ति रखकर, और फिर फूल, फल (पानी की गोलियां, अनार, क्विंस और नारियल) चढ़ाकर पूजा की जा सकती है और मिठाई (विशेष रूप से केसरी भात – केसर, मेवा और चीनी के साथ सूजी का हलवा) देवी लक्ष्मी को, फिर मूर्ति के सामने साष्टांग प्रणाम करना और प्रार्थना के लिए अपनी हथेलियों को मिलाना।

चौथा दिन :पड़वा: 5 नवंबर, 2021(शुक्रवार):

प्रतिपदाउत्सव का चौथा दिन पति और पत्नी के बीच प्यार को समर्पित होता है , और पुरुष अक्सर अपनी पत्नियों के लिए उपहार खरीदते हैं। कई व्यवसाय इस दिन नए खाते खोलते हैं क्योंकि यह शुभ माना जाता है।

पांचवा दिन – भाई दूज: 6 नवंबर, 2021 (शनिवार)

द्वितीयाभाई दूज (भौबीज), उत्सव का अंतिम दिन भाइयों और बहनों को समर्पित है । अपने बंधन का जश्न मनाने के लिए, बहनें अपने भाइयों की सुरक्षा के लिए एक विशेष समारोह करती हैं। भाई अपनी बहनों को उपहार देते हैं।

दीपावली क्यों मनाई जाती है?

माना जाता है कि दीपावली के दिन अयोध्या के राजा राम अपने चौदह वर्ष के वनवास के पश्चात लौटे थे। अयोध्यावासियों का हृदय अपने परम प्रिय राजा के आगमन से प्रफुल्लित हो उठा था। श्री राम के स्वागत में अयोध्यावासियों ने घी के दीपक जलाए। कार्तिक मास की सघन काली अमावस्या की वह रात्रि दीयों की रोशनी से जगमगा उठी। तब से आज तक भारतीय प्रति वर्ष यह प्रकाश-पर्व हर्ष व उल्लास से मनाते हैं। भारतीयों का विश्वास है कि सत्य की सदा जीत होती है झूठ का नाश होता है।

दीवाली यही चरितार्थ करती है- असतो मा सद्गमय, तमसो मा ज्योतिर्गमय। दीपावली स्वच्छता व प्रकाश का पर्व है। कई सप्ताह पूर्व ही दीपावली की तैयारियाँ आरंभ हो जाती हैं। लोग अपने घरों, दुकानों आदि की सफाई का कार्य आरंभ कर देते हैं। घरों में मरम्मत, रंग-रोगन, सफेदी आदि का कार्य होने लगता है। लोग दुकानों को भी साफ-सुथरा कर सजाते हैं। बाजारों में गलियों को भी सुनहरी झंडियों से सजाया जाता है। दीपावली से पहले ही घर-मोहल्ले, बाजार सब साफ-सुथरे व सजे-धजे नज़र आते हैं।दीवाली के दिन नेपाल, भारत,श्रीलंका, म्यांमार, मारीशस, गुयाना, त्रिनिदाद और टोबैगो, सूरीनाम, मलेशिया, सिंगापुर, फिजी, पाकिस्तान और ऑस्ट्रेलिया की बाहरी सीमा पर क्रिसमस द्वीप पर एक सरकारी अवकाश होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *